सुहागरात मनाने के चक्कर में- 1

मेरा सेक्स जीवन कहानी में पढ़ें कि मैं अपने मौसेरे भाई के साथ सुहागरात का मजा लेना चाहती थी. मैंने सारी तैयारी कर ली थी और मेरा भाई आने वाला था.

दोस्तो नमस्कार!
मैं मधु (शहद) एक बार फिर आप लोगों का अपनी मेरा सेक्स जीवन कहानी में टोनिंग वाली नंगी बॉडी से स्वागत करती हूँ।
और साथ ही साथ आप लोगों का दिल से बहुत बहुत धन्यवाद भी देती हूँ कि आप लोग मेरी कहानी

सुहागरात मनाने के चक्कर में चुद गयी
को इतना ज्यादा सराह रहे हो और दिल खोलकर प्यार दे रहे हो।

अगर मैं बात करूं तो मेरी लास्ट कहानी के बाद मुझे 3518 मेल अभी तक आ चुकी हैं।
आप लोगों के इतना प्यार के लिए दिल से शुक्रिया अदा करती हूँ।

और मैं आपको बता दूँ कि मैं सारी मेल को एक एक करके पढ़ रही हूँ. मुझे आप लोगों की मेल पढ़कर बहुत मजा आ रहा है।
मैं जब मेल पढ़ रही थी। तो उस दौरान तकरीबन 99% लोग मेरी चुदाई करना चाहते थे।
अब आप ही बताओ क्या यह मुमकिन है कि मैं इतने सारे लोगो से चुदूँ?

इस बात को यही खत्म करते हुए सीधे कहानी पर आती हूँ।

दोस्तो, आप लोगों ने पिछली कहानी में पढ़ा कि किस तरह मैं अपने मौसेरे भाई सन्नी के आने की खबर से खुश हुई और सुहागरात की प्लान की।
मैं अपने आप को सजाने के लिए पार्लर गयी।

वहाँ उस पार्लर के मालिक सन्नी ने ढंग से मेरी चूत मारी. फिर स्पर्म से अपनी बॉडी की टोनिंग की.
और स्पर्म के नीचे गिर जाने पर उसने मेरी जल्दी से गांड भी मारी और फिर पूरी बॉडी की अच्छे से टोनिंग की।

ऐसा नहीं है कि मैं चुदना नहीं चाहती थी।
आप लोगों को तो पता ही है कि मैं कितनी बड़ी चुदक्कड़ हूँ।
लेकिन उस टाइम मजबूरी थी।

मुझे अपने भाई से सुहागरात मनाने के लिए सजना था इसलिए उसे टाल रही थी।
लेकिन वो भी एक नम्बर का खिलाड़ी था। स्पर्म के बहाने ही सही लेकिन साले हरामी ने मेरी चूत और गांड मार ही ली।

और फिर आपने पढ़ा कि किस तरह उसने मेरी चूत और गांड के स्पर्म से मेरी बॉडी की टोनिंग किया।

टोनिंग करते करते उसे शाम के 7 बज चुके थे।

फिर उसने क्रीम को मेरे शरीर पर 10 मिनट छोड़ दिया।
उसके बाद उसने मेरी पूरी शरीर को गुलाब जल से साफ किया।

देखते देखते 7:25 हो गये।
फिर वो बोला- आधे घण्टे तक ऐसी ही रहो. बॉडी को थोड़ा ड्राई होने दो. फिर अपनी बॉडी की चमक देखना।

मैं बोली- अब मैं नहीं रुक सकती यार … पहले ही बहुत देर हो गई है। सन्नी पहुँचने वाला है। मुझे जाना होगा।
फिर वो बोला- यार बॉडी को सुखाना जरूरी है।

तभी वो बोला- एक काम हो सकता है।
मैं बोली- क्या?

उसने पूछा- तुम अपनी गाड़ी से आई हो ना?
मैं बोली- हाँ … क्यू?
तो वो बोला- तुम बिन कपड़े पहने चली जाओ। इतने में तुम्हारा जिस्म सूख जाएगा.
मैं बोली- पागल हो क्या? अगर किसी ने देख लिया तो मेरी तो वाट लग जायेगी।

फिर वो अपने हाथ में एक टॉवल वाली गाउन लेकर आया और बोला- ये पहनकर जा सकती हो।
मैं बोली- जा तो नहीं सकती … लेकिन बॉडी में हवा लगानी है तो एडजस्ट कर लूंगी।

फिर मैंने वो गाउन पहन ली जो मेरे घुटनों के ऊपर तक थी।
मैं वो गाउन पहनकर चली गयी।

पूरे रास्ते मैं डर रही थी कि कोई देखे ना!
करीब 8 बजे मैं अपने घर पहुँच गयी।

लेकिन इस हाल में कोई देख लेता तो प्रॉब्लम हो जाती।
इसलिए मैं अपनी कार को सीधे पार्किंग के लिफ्ट के पास लगाई और आगे पीछे देखकर सीधे लिफ्ट में घुस गई।
और सही सलामत अपने रूम में पहुँच गयी।
घर पहुँचते ही मैंने चैन की साँसे ली।

झट से मैंने रूम लॉक किया और अपना गाउन उतार दी।

तब अपने आप को आईने में देखकर मैं खुद मचल गयी।
मैंने सोचा कि ऊपर वाले ने मुझे कितनी हॉट बनाया है।
और ऊपर से सन्नी ने तो बिल्कुल कमाल कर दिया था। आज तक ऐसी टोनिंग किसी ने नहीं की थी।

मैं मन ही मन अपने आप को देखकर खुश हो रही थी।
तभी मेरा फोन बजा।

मैंने देखा कि मेरे भाई सन्नी का फोन है।
कॉल रिसीव की मैंने तो सन्नी बोला- मेरी जान, मेरी फ्लाइट लैंड कर चुकी है। अब कुछ ही देर में तुम्हारे पास होऊंगा।

मैं बोली- बिल्कुल मेरे राजा … जल्दी आजा. तुम्हारी दुल्हन कब से तैयार है।
तो सन्नी बोला- बिल्कुल मेरी रानी … तेरा राजकुमार आ रहा है तेरी सर्वेसिंग करने।
और उसने फोन काट दिया।

मैंने टाइम देखा तो 8:10 हो रहे थे।
एयरपोर्ट से मेरे घर तक आने में 40-50 मिनट लग जाते हैं।

यानि मेरे पास अब 40 मिनट थे तैयार होने के लिए!
लेकिन मैं अभी बिल्कुल नंगी थी।

फिर मैं अपने कबर्ड खोली और मेरे भाई की फेवरेट ब्रा पेंटी की सेट निकाली जो भाई ने ही मुझे गिफ्ट करी थी।
ट्रांसपरेंट रेड कलर बहुत स्टाइलिश ब्रा में इतना ही कपड़ा था जितने से मेरी चूचियां ढक जायें।
उसके अलावा उसमें सिर्फ डोरी थी।

और अगर पेंटी की बात करें तो उसमें पहनना या ना पहनना एक जैसा ही था।
पूरी पेंटी में सिर्फ 3 इंच कपड़ा होगा जो चूत ढकने के लिए था। और गांड के लिए सिर्फ एक डोरी थी जो मेरी गांड की दरार में जाकर अपना जगह बना लेती थी।

इतनी सेक्सी ब्रा पेंटी थी कि उसे देखकर ही मूड बन जाये।
और आप लोग समझ सकते हैं कि अगर मेरी जैसी पटाका इसको पहन ले तो कितनी हॉट लगेगी।

फिर मैं अपनी फेवरेट रोज प्रिक परफ्यूम निकाली.
आप में जो परफ्यूम के शौकीन होंगे उन्हें पता होगा इस परफ्यूम के बारे में!
यह परफ्यूम ज्यादातर सुहागरात में ही यूज़ की जाती है।

फिर मैंने अपनी ब्रा पेंटी पर हल्की सी परफ्यूम स्प्रे की और फिर अच्छे से पहन ली।
पहनने के बाद मुझे बिल्कुल भी महसूस नहीं हुआ कि मैंने कुछ पहना भी है।
बस बूब्स, चूत और गांड में एक चौकीदार लग गया।

और फिर अपनी शादी वाली लहंगा चुनरी निकाली. जिसे देखकर मुझे अमित के साथ सुहागरात के सारे मजारे मेरी आँखों के सामने आ रहे थे।
मैं सोच रही थी कि कितनी लकी लहँगा चुनड़ी है। इसे पहनकर दूसरी बार सुहागरात मनाऊँगी।

फिर मैंने अच्छे से लहँगा चुनरी पहन ली।
और एक एक करके अपने सारी जेवर भी पहन ली।

फिर ऊपर से भी हल्की परफ्यूम मार ली।

और जब मैंने अपने आप को आईने में देखा तो मन ही मन बोली- साली तू कितनी बड़ी छिनाल है। अभी तू पार्लर वाले सन्नी से चूत गांड मरवा कर आई है। और अब अपने भाई सन्नी के साथ सुहागरात मनाने जा रही है।

ये सब सोच सोचकर मैं मुस्कुरा रही थी। और आज की चुदाई को सोच सोचकर खुश हो रही थी।

फिर मैंने सोचा कि एक बार अपने रूम को देख लूं.
हालांकि पार्लर जाने से पहले ही मैंने रूम को अच्छे से सजा दिया था।

फिर भी एक बार चेक कर लिया मैंने और फिर हल्की सी मोगरा फ्लेवर की रूम में परफ्यूम छिड़क दी।

एक ग्लास दूध, बादाम, काजू किसमिश वाली रख दिया।

फिर मैं सब चेक करने लगी कि सब ठीक है या नहीं।

तभी मेरे मॉम की कॉल आ गयी। वो सन्नी के बारे में पूछ रही थी।
मैं बोली- बस आने वाला है।

तभी मेरी डोरबेल बजी और मैं बात करते करते जैसे ही दरवाजा खोला, सामने मेरा यार, मेरा प्यार, मेरा सब कुछ मेरे सामने था।
मैं बहुत खुश हुई और मैं सन्नी से लिपट गयी।
वो भी मुझे देखकर काफी खुश हुआ।

उसने मुझे किस करने की कोशिश की लेकिन मैंने उसके होंठों पर उँगली रखते हुए मना कर दिया।
और फिर मॉम को बोली- लो सन्नी से बात करो।

फोन लेकर सन्नी अंदर आ गया और मैंने गेट अच्छे से बंद कर दिया।

सन्नी अभी भी बात कर ही रहा था। मुझे आते देख वो फोन को स्पीकर पर कर दिया।

मॉम सन्नी को बोल रही थी- बेटा, अपनी बहन का अच्छे से ख्याल रखना. और जबतक तेरे जीजा जी नहीं आ जाते, तुम वहीं रहना।
सन्नी एक उंगली को मेरे गाल पर फेरते हुए बोला- आप टेंशन मत लो मौसी! मैं दीदी का ख्याल बहुत अच्छे से रखूँगा।

फिर सन्नी बोला- मौसी, मैं आपको बाद में कॉल करता हूँ। पहले थोड़ा फ्रेश हो लूं।
मॉम भी बोली- बिल्कुल … तुम फ्रेश हो लो।
और फोन कट कर दी।

फोन कटते ही सन्नी बोला- क्या बात है मेरी जान? आज तो कहर ढा रही हो। बिल्कुल मेरी दुल्हन की तरह लग रही हो।
मैं कंटीली मुस्कान के साथ बोली- दुल्हन तो मैं तुम्हारी ही हूँ राजा।

फिर उसने मेरे गले लगने की कोशिश की।
लेकिन मैं उसे रोकते हुए बोली- ऐसे नहीं … आज हमारी सुहागरात है तो सब कुछ बेड पर ही होगा।

तो सन्नी बोला- ठीक है तो चलो बेड पर!
फिर मैं बोली- ऐसे नहीं।

मैं उसके हाथ में शेरवानी देते हुए बोली- अगर मैं दुल्हन बनी हूं तो तुम्हें भी तो दूल्हा बनना होगा ना! जाओ फ्रेश होकर दूल्हा बनकर आओ उसके बाद ही कुछ मिलेगा।
वो बोला- आज तो मजा आ जायेगा मेरी जान!
और वो शेरवानी लेकर बाथरूम चला गया।

मैं भी अपने कमरे में चली गयी। मैं दुल्हन की तरह सुगाहसेज पर बिल्कुल दुल्हन की तरह घूघंट लेकर बैठ चुकी थी।

करीब 15 मिनट बाद वो रूम में आया।
और आते ही वो रूम की महक से खुश होकर बोला- बहन हो तो ऐसी! भाई की हर चीज का खयाल रखती है।
मेरा भाई सन्नी मेरे पास आकर बैठ गया।

वो बोला- क्या बात मेरी छमक-छल्लो … आज तू जाकर मेरी बीवी बनी है।
फिर वो मेरे सामने बैठा और मेरे घूघंट को अपने दोनों हाथों से उठाया.

सन्नी बोला- चाँद भी तुम्हें देखकर शर्मा जाए. ऐसी हुस्न है मेरी बहन का!
औऱ मेरे गाल पर एक पप्पी कर दी।

अब वो बोला- क्या चाहिए मेरी जान को मुँह दिखाई में?
मैं बोली- मुँह दिखाई बोल कर नहीं दी जाती है। अपने मन से जो पसन्द है, दे सकते हो।

सन्नी बोला- नहीं मेरी जान, जो तुम्हें पसन्द हो, वो माँगो!

फिर मैं बिना सोचे ही बोल दी- अगर देना ही चाहते हो तो एक वादा करो?
सन्नी बोला- कैसा वादा मेरी जान! मैं हर वादा करने के लिए तैयार हूं। तुम बोलो तो सही।
उतने में मैं मजाक में बोली- तुम यहीं रह जाओ और रोज मेरी चुदाई करो।

सन्नी बिना देर लगाए बोल पड़ा- क्यों नहीं मेरी जान … आज से तुम्हारा भाई यहीं तुम्हारे पास रहेगा और रोज तुम्हें मजे देगा।

मैं तो मजाक कर रही थी लेकिन इसने तो सिरियस में ले लिया।
लेकिन मैं उसके फैसले से बहुत खुश थी।

जैसा आप लोगों को पता है कि सन्नी आज तक मेरे साथ ही है।
और जब तक मैं उससे कम से कम एक बार भी ना चुद लूं, मुझे चैन नहीं पड़ती।

इन सब बातों को हटाते हुए कहानी पर आती हूँ।

फिर मैंने सन्नी को दूध का ग्लास दिया।
दूध देखकर वो काफी खुश हुआ और बोला- क्या बात है!

लेकिन वो दूध अपनी हाथों से मुझे पिलाने लगा और बोला- ये दूध मेरी रानी के लिए है। मैं तो अपनी दीदी की दूध पियूँगा।
और वो मेरे बूब्स को चोली के ऊपर से सहलाने लगा।

फिर मैं दूध को अपनी मुँह से निकलते हुए बोली- मेरे राजा, दीदी की दूध तो हमेशा पीते हो. आज हमारी सुहागरात है तो आज ये दूध भी पी लो।
और मैंने उसके मुँह में ग्लास लगा दिया।
वो मेरा झूठा दूध पी गया और गलास को एक साइड में रख दिया।

मेरा सेक्स जीवन कहानी में मजा आ रहा होगा ना आपको?

इस कहानी का अगला भाग: सुहागरात मनाने के चक्कर में- 2