मामाजी के घर पर रक्षाबंधन में बने अन्तरंग रिश्ते- 1

हॉट दीदी सेक्सी कहानी में पढ़ें कि मैं और मेरे पति इस रक्षाबंधन पर अपने मामाजी के घर गए. वहां यह पारिवारिक मुलाकात एक सामूहिक परिवार सेक्स में कैसे बदल गयी.

दोस्तो, मेरा नाम कृति चौहान है, मेरी उम्र 28 साल है.
मैं नोएडा में अपने पति अमित के साथ रहती हूं। अमित 32 साल के हैं.

शादी से पहले मैं बहुत सीधी सादी सी लड़की थी लेकिन मेरे पतिदेव बहुत कामुक स्वभाव के हैं जिनकी बातों और हरकतों के चलते अब मैं भी कामुक ख्यालों से भर गई हूं।

अमित और मैं अब अपने सेक्स के दौरान बहुत बोल्ड बातें करते हैं जिनमें दूसरे लोगों का जिक्र भी होता है.
इन लोगों में हमारे आस पास के लोग, दोस्त और हमारे फैमिली मेंबर्स होते हैं जिनके बारे में गंदी बातें, रोलप्ले वगैरह सब कुछ शामिल है, मतलब हमारी सेक्स लाइफ फैंटसीज से भरी हुई है।

हम अपनी अलग ही सेक्सी, इरॉटिक और कल्पना की दुनिया में रहकर सेक्स का भरपूर सुख ले रहे हैं.

यह मेरी पहली कहानी है और यह Sexy Hot Didi xKahani मैं इसी कल्पना की दुनिया से आप सबके लिए लाई हूं।

बात इसी 22 अगस्त रक्षाबंधन की है.
मेरा कोई भाई यहां नहीं है लेकिन मेरे मामाजी की फैमिली यहीं नोएडा में रहती है. उनकी फैमिली में मामाजी जिनका नाम राजेश उम्र 52, मामी जी जिनका नाम सरिता उम्र 49, उनकी बेटी दिव्या 21 और एक बेटा सनी 19 साल का है।

मामी का फोन सुबह सुबह आया- बेटा कृति, आज रक्षाबंधन है तो तुम दोनों लोग यहीं आ जाना पूरे दिन के लिए और अपने भाई को राखी भी बांध देना!

मैंने अमित को बताया.
इनकी भी छुट्टी थी तो हम नाश्ता करके मामा के घर के लिए निकल गए.

मैंने जींस और रेड टॉप पहना था और अच्छे से चूड़ियां मंगलसूत्र पहन रखा था.
मेरे हबी ने जींस के साथ ब्ल्यू कलर की शर्ट पहनी थी।

  मेरी चुत की खुजली मिटाने वाले मिलते गए-2

हम आधे घंटे में मामाजी के घर पहुंच गए थे.
जाकर बैठे, बातों का दौर चला और चाय पी।

फिर मामी जी ने कहा- कृति, सनी को राखी बांध लो अब … फिर आराम से बैठेंगे!
मैंने कहा- ठीक है।

पूजा की थाली आ गई और मैंने सनी को राखी बांधी तो उसने कहा- दीदी बताइए, आपको क्या चाहिए?
मैं बोली- तू अभी बहुत छोटा है तुझसे क्या मांगूं?

लेकिन वो जिद करने लगा और मामी ने भी कहा- जब इतना बोल ही रहा है तो मांग लो।
पता नहीं मुझे क्या हुआ … मैंने सबके सामने ही उसके पैंट की जिप की तरफ इशारा करते हुए कहा- सनी, अगर तुझे कुछ देना ही है तो मुझे ये दे दो।

सब ये देखकर एकदम सन्न रह गए और मेरी तरफ देख रहे थे.
एकदम शांति हो गई एक मिनट के लिए!
और मुझे भी एहसास हुआ कि ये मैंने क्या कर दिया।

मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब मैं क्या करूं!

तभी मामी ने बोला- सनी, तू ही तो जिद कर रहा था. अब अगर तेरी बहन ने कुछ मांगा है तुझसे तो तुझे दे देना चाहिए।

यह सुनकर मेरी जान में जान आई और मैंने मामाजी की तरफ देखा तो उन्होंने आंखों ही आंखों में मुझे परमीशन दे दी।
मैंने अमित की तरफ देखा तो शैतानी मुस्कुराहट उनके चेहरे पे थी।

अब मैंने कोई देर नहीं की, सनी का हाथ पकड़ कर उसे अपने साथ सोफे पे बिठा लिया और मेरा हाथ उसकी जांघ पे धीरे से फिराया और दूसरा हाथ उसके चेहरे पे रख दिया और धीमे से उसके होंठों को अपने होंठों से छू लिया।

ये बहुत ही अलग अहसास था क्योंकि मैंने ये सब सिर्फ अपने पति के साथ फैंटेसी में किया था.
लेकिन आज हकीकत में मैं एक 19 साल के लड़के के होंठों पे किस कर रही थी जो मेरा छोटा भाई था।

मामाजी मामीजी अमित और दिव्या बिना कुछ बोले बस हम दोनों को देख रहे थे।

अब सनी को किस बात की फिक्र थी, उसने मेरे चेहरे को पकड़ कर मुझे स्मूच करना शुरू कर दिया.
19 साल का लड़का मेरे होठों को चूस रहा था जो मेरा भाई लगता है, ये ख्याल मेरे मन में छिपी हवस को जगा रहा था.

हम अच्छे से एक दूसरे के होठों को चूम रहे थे बाकी सबसे अनजान … कि यहां कोई है भी या नहीं!
बस चूमे जा रहे थे।

फिर सनी ने अपने दोनों हाथों से मेरी गोलाइयों को महसूस किया.
फिर उसकी नजर मेरी क्लीवेज पर थी और दोनों हाथ दोनों बूब्स पर थे और अच्छे से दबा रहे थे।

मैंने बाकी सबकी तरफ देखा तो मेरे सामने वाले सोफे पे मामी बैठी थी ब्ल्यू साड़ी पहने और हमें ही देख रही थी.
मेरी नजर उनसे मिली तो वो मुस्कुरा दी।

मेरे पास ही बिछे दीवान पर दिव्या बैठी थी जिसने सलवार कमीज पहनी थी.
वो अपने जीजू को यानि अमित को देख रही थी.

मैं मन ही मन मुस्कुरा दी।

बायीं ओर सोफे पर अमित को देखा तो उनकी नजर मुझपे थी।
और हमारे पास में मामा जी थे जो मेरी बूबीज़ को घूर रहे थे।

हमारी नजर मिली तो लगा के जैसे वो तो मेरी लेने के लिए बेताब ही बैठे हैं।

सनी ने अब मेरा रेड टॉप निकाल दिया और मेरी रेड ब्रा के ऊपर से दिखती मेरी क्लीवेज पे मुंह लगा दिया और चाटने लगा.

सब ऐसे देख रहे थे जैसे लाइव ब्लू फिल्म चल रही हो।

अचानक मामाजी उठकर मेरे बगल में आके बैठ गए और मेरी गर्दन पे किस करने लगे।

पूरी फैमिली इतनी कंफर्टेबल लग रही थी जैसे रोज ही ये सब होता हो।

सब चुप थे … सिर्फ दोनों बाप बेटे मुझे प्यार करने में लगे थे।

तभी मामी जी उठकर अमित के पास बैठ गई और उनसे पूछा- अमित, कैसा लग रहा है तुम्हे ये देखकर?
अमित ने कहा- बहुत अच्छा मामी जी!

तो मामी ने कहा- देखो, आज कोई रिश्ते नहीं देखेगा. अब जब ये सब शुरू हो ही गया है तो सब एक दूसरे का नाम ही लेंगे ओके?
तो अमित बोले- हां सरिता, ये ठीक रहेगा।

मामाजी ने मुझसे पूछा- कृति बेटा, कैसा लग रहा है तुम्हें?
तो मैंने धीमे से कहा- बहुत अच्छा मामाजी।

उन्होंने मुझे फौरन टोका- सुना नहीं सरिता ने क्या कहा?
मैंने हां में सर हिला दिया।

 

अब एक बार फिर सनी मेरे होंठ चूसने लगा.
मैं बता नहीं सकती कि मुझे कैसा लग रहा था.
इतनी सिहरन मुझे आजतक नहीं हुई थी.

आज तक किसी और ने मुझे छुआ नहीं था, आज एक साथ दो मर्द … वो भी मेरे सगे मामा और भाई उफ्फ … मेरी काया में सुइयां चुभ रही थी एक्साइटमेंट के मारे!

उस पर ये सब कुछ फैमिली के सामने हो रहा था.
मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा था … बस मैं इस पल को जी रही थी.
उफ्फ कितना सुख है इसमें!

इतने में मामा जी ने मेरी ब्रा खोल दी और दोनों ने अपने अपने हिस्से का एक एक बूब लेकर उसे चूसना शुरू कर दिया।

मेरी 34B साइज के मम्मे मेरे मामा जी और उनका बेटा चूस रहे थे.
मैंने उन दोनों के बाल पकड़ रखे थे और अब तक मेरी चूत गीली होने लगी थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था।

मामी जी और अमित अभी तक सिर्फ हमे देख रहे थे.

अब मामी जी ने अमित से कहा- बेटा, तुम ऐसे ही बैठे रहोगे क्या? तुम्हें कुछ नहीं चाहिए?
अमित मुस्कुराया.

तो मामी जी ने अमित को लिप टू लिप किस कर लिया.
छोटा सा प्यारा सा किस!

फिर मुझसे कहा- कृति देखो, तुम मेरे पति और बेटे से मजे ले रही हो और अब मैं तुम्हारे पति से मजे लूंगी।

इतना कहकर मामी जी ने दिव्या को बुलाया जो नजरें नीचे किए बैठी थी अब तक!

उसे अपने और अमित के बीच में बिठा के मामी बोली- बेटी शरमाओ मत, आज सब अलाउड है. तेरे जीजाजी ही तो हैं.
बोलकर उसके गाल पे एक किस कर दी।

दिव्या बहुत ही सुंदर लड़की है, उमर 21 साल है बहुत मासूम सी और अपनी उमर से कम की लगती है।
उसका शरीर स्लिम है, कद लम्बा और उसके उभार बहुत खूबसूरत दिखते हैं.
पिंक कलर की दिव्या कयामत ही है।

मामी जी ने अमित का हाथ पकड़ कर दिव्या के बूब्स जो शायद 30 के होंगे पर रख दिया।

फिर क्या था … उन्होंने बिल्ली के हाथ में दूध का कटोरा ही दे दिया था।
अमित के अंदर दिव्या को पाने की लालसा शुरू से ही थी, जाने कितनी बार तो अमित ने मुझसे दिव्या का रोलेप्ले करवाया था.

और जब भी मैं दिव्या बनी, उसकी कामोत्तेजना बहुत बढ़ जाती थी.
वो मुझे बिल्कुल ऐसे ट्रीट करता था जैसे मैं 19-20 साल की मासूम सी वर्जिन लड़की हूं … बहुत प्यार और नजाकत से।

अमित ने दिव्या पकड़ कर उसके होंठों का रस पीना शुरू कर दिया और एक हाथ उसकी छाती को नाप रहा था और दूसरा उसकी पीठ पे था।

मैं खुश थी क्योंकि आज अमित की हसरत पूरी हो रही थी और दिव्या उसकी बांहों में थी।

यहां मामा जी और सनी मेरा दूध ऐसे पी रहे थे जैसे गाय से बिछड़े उसके बछड़े हो।

सनी ने मुझसे पूछा- दीदी, आपको मजा आ रहा है न?
तो मैंने कहा- उफ्फ … पूछ मत कि कितना मजा आ रहा है.

तभी मामा जी ने मेरी निप्पल पे काट लिया.
मेरी चीख निकल गई- आउच मामा जी!

उन्होंने मेरे गाल पे एक प्यार से थप्पड़ मारा और बोले- बेटा सिर्फ मजे ही लेगी? थोड़ा दर्द भी तो ले।
बोलकर मुझे स्मूच करने लगे और अपने बाएं हाथ को नीचे ले जाकर मेरी जींस की बटन और जिप खोलने लगे।

मेरा दायां हाथ सनी के बालों में था और बायां मामाजी ने पकड़ कर अपने लन्ड पर रखकर दबाया.
तो मैंने उनका सामान पैंट के ऊपर से महसूस करना शुरू कर दिया।

आज पता चला कि जन्नत किसे कहते हैं.
मैंने इतनी उत्तेजना कभी महसूस नहीं की थी।

हमें दूर से देख रही मामी जी ने सनी से कहा- बेटा, अपने कपड़े निकाल और दीदी को वो भी तो टेस्ट करा जो उन्होंने मांगा था।

सनी ने मेरे बूब छोड़ दिए और खड़ा होकर अपनी टीशर्ट निकाल दी.
फिर जींस भी निकाल कर सनी चड्डी में मेरे सामने खड़ा हो गया.

मैंने उसे देखा. बिल्कुल दुबला पतला सा … शरीर पर एक भी बाल नहीं था.
जैसे ही मैंने उसकी चड्डी खिसकाई … उफ्फ … क्या सरप्राईज था.
लगभग 7 इंच का ठीक ठाक मोटा लन्ड लटक रहा था।

मैं तो उसके शरीर और लन्ड को देख कर अवाक रह गई.

अमित के लंड से बड़ा था उस 19 साल के लड़के का लन्ड!
जितना हैरान मैं थी … उतना ही मामी जी भी!

जैसे ही उसका लन्ड बाहर आया, उनके मुंह से निकला- अरे वाह बेटा!
एक मिनट के लिए सबकी नजर उसके ही सामान पर थी।

मामाजी का हाथ मेरे जींस में मेरी पैंटी के ऊपर से मेरी चूत का नाप ले रहा था.
और वो मेरे एक्सप्रेशन देख रहे थे क्योंकि मुझे इतना मजा आ रहा था कि मैं उफ्फ ऊऊ उम्म्म और बीच बीच में कभी ‘उफ्फ मम्मी’ कभी ‘ओह गॉड’ बोले जा रही थी।

मामाजी ने धीरे से मेरे कान में कहा- मेरा नाम नहीं लेगी मेरी रण्डी?
उफ्फ … मामाजी ने ये क्या कह दिया, सच में चूत में लौ जल गई।

और मेरे मुंह से जोर से निकला- ऊउफ्फ राजेश आई लव यू!
उन्होंने मेरे दोनों होंठ अपने मुंह में भर लिए और जीभ मेरे मुंह में घुसा दी.

अब तक मैं सनी का लन्ड अपने हाथ से सहला रही थी।

मामाजी ने छोड़ा तो मैंने सबसे पहले सनी के लन्ड पर किस किया और फिर उस प्यारे से लन्ड को अपने मुंह में भरकर चूसना शुरू कर दिया।

अभी मैंने 3-4 बार अंदर बाहर किया ही था कि उस लड़के ने मेरा सर पकड़ा और बोला- आई लव यू कृति दीदी!
और अपना लन्ड मेरे मुंह में घुसाने लगा।

सनी मुझे अपना लौड़ा चुसा रहा था, मामाजी अपनी बेटी समान लड़की, जिसे वो अपनी रण्डी मान चुके थे, की चूत पूरी ठरक के साथ सहला रहे थे जो अब तक गीली हो चुकी थी।

मेरे पति देव अमित जो अपनी साली दिव्या का कुर्ता निकल चुके थे और उसके उभरे हुए चूचों को ब्रा से बाहर निकाल कर उसे चूम रहे थे, चूस रहे थे और निप्पलों को दांतों से खींच रहे थे।
अमित कभी कभी इतनी जोर से दबाते कि उसकी सिसकी निकल जाती।

लेकिन शायद पहली बार कोई मर्द उसके दूधोँ के साथ खेल रहा था जिसका वो भरपूर सुख ले रही थी.
और अमित भी दिव्या की जवानी का भरपूर मजा लेना चाहता था इसलिए उसे किसी बात को जल्दबाजी नहीं थी।
वो इस तरह से दिव्या को चोदना चाह रहा था कि वो उसकी दीवानी हो जाए।

सनी मेरे मुंह की सवारी कर रहा था और कोशिश कर रहा था कि अपना लन्ड पूरी गहराई तक घुसाए हर बार!
लेकिन मुझे इतना बड़ा लन्ड लेने की आदत नहीं थी.
यह 7 इंच का था जबकि अमित का सिर्फ 5 इंच का है.

तो मेरा हाथ सनी के पेट पे था जिससे वो जबरदस्ती न घुसा सके क्योंकि मेरा मुंह चोक हुआ जा रहा था।

मामी जी ने पूछा- कृति, कैसा है तुम्हारे छोटे भाई का खिलौना?
मैंने कहा- बहुत अच्छा।

मामाजी ने अब तक मेरी जींस निकाल कर फेंक दी थी और मेरी ब्लैक लेस वाली पैंटी पे अपना मुंह लगा दिया था.
मैंने अपनी टांगें फ़ैला दी थी.

‘ऊऊ उफफ अमामम्म आउच ओह गॉड उफ्फ’ कर रही थी मैं!

मामा जी अपनी जीभ को पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत की दरार में घुसाना चाह रहे थे और बार बार चूत की पूरी लंबाई को चाट रहे थे.

उफ्फ इस तरह को चटाई मुझे अच्छी लग रही थी लेकिन मैं चाहती थी कि वो मेरी पैंटी फाड़ के चाट लें मेरी इस प्यासी बुर को!

मैं अब तड़प रही थी और अपनी हिप को उछाल सा रही थी।

आप सबको मेरी ये सेक्सी हॉट दीदी क्स कहानी कैसी लग रही है?
मुझे मेल करके बताइएगा।
अगला भाग जल्दी ही आपके सामने लायेगी आपकी कृति!
[email protected]

सेक्सी हॉट दीदी क्स कहानी का अगला भाग: हिंदी फॅमिली पोर्न कहानी