सासु मां की मचलती चूत को मेरे लंड का सहारा- 2

Xxx MILF सेक्स कहानी में मैंने अपनी गर्म सास की चूत को चोदा. उसने खुद मुझे अपना नंगा जिस्म दिखाकर उसके साथ सेक्स करने के लिए उकसाया.

दोस्तो, मैं नितिन साहू आपको अपनी सासुमां की चुदाई की कहानी सुना रहा था.
कहानी के पहले भाग
सासु मां की मचलती चूत
में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी सासु मां के कहने पर उनकी मालिश करने राजी हो गया था.

अब आगे Xxx MILF Sex Kahani:

मैंने हाथों में ढेर सारा तेल लिया और उनके मखमली गुंदाज जांघों को आराम आराम से मस्त सहलाने लगा.

उन्हें भी बहुत अच्छा अहसास होने लगा. वो अपनी दोनों आंखें बंद करके मजा ले रही थीं.

कुछ देर बाद उन्होंने पीठ की मालिश करने को कहा.
मैंने हामी भर दी.

सासु मां ने अपने पेटीकोट के नाड़ा को खोला और कमर के नीचे सरकाकर औंधी लेट गईं.
जैसे सनी लियोन का जिस्म-2 में रणदीप हुड्डा मालिश करता दिखाया गया था, वैसे ही मैं भी करने लगा.

उनका इस तरह का मादक जिस्म देखकर मेरा लंड अपने पूरे आकार में आ गया था.
सासु मां भी आंखें बंद करके मेरे हाथ से मालिश का मस्त आनन्द लेने में लग गईं.

उनका पेटीकोट जांघों से कूल्हे तक ऊपर चढ़ गया था.
उन्होंने पैंटी भी निकाल रखी थी या पता नहीं पहनती ही नहीं थीं.

उस दिन उनकी चुदाई पक्की हो ही जाती लेकिन हुआ यूं कि उसी समय मोनिका का फोन आ गया.

वो बोली- वीडियो कॉल करो ना … आपको कुछ दिखाना है.
मेरी गांड फट गई.

मैंने उससे कहा- मैं थोड़ी देर में लगाता हूँ. अभी मैं टॉयलेट में हूँ.
फोन काट कर मैंने सासु मां को बताया.

उन्होंने झट से अपने कपड़े ठीक किए और कम्बल ओढ़कर सो गईं.

मैंने वीडियो कॉल किया तो मोनिका मुझे अपनी नई ब्रा पैंटी पहनकर दिखा रही थी.

  बेटी के यार के लंड से चुदाई की लालसा- 4

मैं रात के एक बजे तक उससे रोमांटिक बात करता रहा और मुठ मारकर सो गया.
ये सब कुछ सासु मां भी देख रही थीं.

मेरी बीवी बहुत बड़ी चुदक्कड़ थी, मेरे से बगैर एक दिन भी सेक्स किए रह नहीं सकती थी.

अगले दिन वो सुबह अपनी मां के घर आ गई.
उस दिन रात में हम दोनों ने खूब चुदाई की.

सासु मां ने ये सब कुछ देखा और खुद नंगी होकर अपनी चूत में उंगली कर रही थीं.

मेरी नजरों ने चुदाई करते करते उन्हें वो सब करते हुए देख लिया था.

अगले दिन मोनिका अपनी पैंटी को सुबह ढूंढ रही थी.
उस दिन सासु मां सुबह ही नहा ली थी.

मैंने उनकी तरफ देखा तो उनके चेहरे पर एक कामुक मुस्कान थी.

कल की उनके हरकतों को देखकर ही मुझे संदेह हो गया था कि इन्होंने ही मोनिका की पैंटी चुराकर पहन ली होगी.

मोनिका ने उनसे भी पूछा- मम्मी, क्या आपने मेरी पैंटी देखी है?
लेकिन उन्होंने मना कर दिया.

फिर हुआ यूँ कि मेरी बीवी को उसके बॉस ने काम के सिलसिले से जल्द ही बुला लिया.
उस दिन मैं भी काम से जल्द ही दोपहर में वापस आ गया.

सासु मां ने मुझे खाना लगा दिया और मैंने खा लिया.
मैं बाजार चला गया और मस्त व एकदम छोटी सी पैंटी (थोंग) खरीद ली. साथ ही उसको गिफ्ट पैक करवा ली.

मैं घर वापस आया और शाम को मैंने अपनी सासु को बुला कर कहा- मम्मी जी, मैं आपके लिए एक छोटा सा गिफ्ट लाया हूँ और आपसे एक अनुरोध करूंगा कि आपको कोई भी दिक्कत हो या किसी भी चीज़ की जरूरत हो, तो आप मुझे कहिये, मैं आपको दिला दूँगा. मैं आपकी हर जरूरत को पूरा करूंगा.
ये कह कर मैंने उन्हें वो गिफ्ट पैक दे दिया.

उन्होंने मेरी तरफ हैरानी से देखते हुए वो गिफ्ट खोलकर देखा.
मेरे सामने उन्होंने पैंटी को देखा और शर्माने लगीं.

उन्होंने कहा- दामाद जी, आपको कैसे पता मुझे पैंटी की जरूरत है?
“आपको जरूरत है, ये तो मुझे मालिश के दिन ही पता चल गया था. लेकिन आज आपने मेरी डार्लिंग की पैंटी को चुराया तो मुझे पक्का समझ आ गया कि आपको इसकी जरूरत है.”

उन्होंने कहा- मुझे जरूरत नहीं थी. मगर मैंने तुम दोनों को सेक्स करते समय देखा था. मोनिका ने पैंटी पहनी थी, वो बड़ी ही सेक्सी लग रही थी. हालांकि मुझे पता था कि ये मेरे लिए थोड़ी छोटी होगी, लेकिन ये टाइट और छोटी पैंटी मुझे और ज्यादा सेक्सी बनाएगी, ये सोचकर मैंने चुरा ली थी.

मैंने कहा- आपको सेक्सी किसके लिए बनना है?
उन्होंने कहा- खुद के लिए … और सिर्फ सेक्सी बनने की बात नहीं, मालिश करवाते समय नंगी तो नहीं हो सकती थी, तो इसलिए … और उसके लिए एक छोटी पैंटी ही ठीक है.

सासू माँ ने यह नहीं बताया कि उनको मुझे उकसाना है.

फिर रात को मैं सिर्फ चड्डी पहनकर सोता था तो हॉल में सो गया था.
मैं थका हुआ था, तो मेरी आंख लग गई.

सासु मां रात में ब्रा और पैंटी में मेरे बेड में आकर मुझसे चिपककर सो गईं.
उनके आने का मुझे पता ही नहीं चला.

थोड़ी देर बाद उनका एक हाथ मेरे लंड पर अंडरवियर के ऊपर आ गया और वो अपना सर मेरे सीने रखकर सो गई थीं.

कुछ समय के बाद मुझे अहसास हुआ कि मेरे सीने वजन सा है तो मैं उठ गया.
तब मैंने देखा कि ये हुस्न की मल्लिका आज मेरे लंड की मल्लिका बनने आई है.

मैं उठा, तो वो भी उठ गईं.
मैंने पूछा- आप यहां कैसे?

उन्होंने कहा- क्यों मैं नहीं सो सकती क्या?
मैं कुछ नहीं बोल पाया.

फिर वो मुझसे लिपट गईं और बोलीं- दामाद जी, मैंने जब से शादी की है तब से आज तक ऐसा कोई दिन नहीं रहा होगा जब अपने मर्द की बांहों में रात नहीं गुजारी हो. सेक्स मेरी आदत सी बन गई है, जब तक मैं तुम्हारे ससुर का लंड हाथ में ना पकड़ूँ, तो मुझे नींद नहीं आती थी.

इनके मुँह से खुले खुले शब्दों में लंड सुनकर मुझे समझ आ गया कि आज जश्न की रात है.

उधर सासु मां कहे जा रही थीं- अब तुम्हारे ससुर तो नहीं रहे, तो कैसे करूं, क्या बताऊं … मुझे ये सभी आदतें उन्होंने ही डाली थीं. मेरे चारों बच्चों के होने तक … यहां तक जब वे सब बड़े हो गए, तब भी हम दोनों एक ही बेड पर सोते थे. जब तक वो मुझे रगड़ते नहीं थे, मुझे नींद नहीं आती थी.

मैंने कहा- मतलब आपको अभी अपनी रगड़ाई चाहिए.
सासु मां हंस कर मुझसे चिपक गईं.

बस फिर क्या था … अपनी सासु मां के यौवन का रसपान तो मैं भी करना चाहता था.
मैंने कहा- आज से हर रात आप मेरे लंड का स्वाद लेकर सोओगी.

ये कह कर मैंने उनके होंठों अपने होंठों से मिलाया और चूसने लगा.
वो गांव की देसी महिला थीं. उन्होंने आज तक इस तरह से लिपकिस नहीं की थी इसलिए वो इतना साथ नहीं दे पा रही थीं.

धीरे धीरे उनको भी मजा आने लगा, वो भी साथ देने लगीं.

Video: बेटी ने स्टेप डैड से चुदाई कर कॉलेज की थकान उतारी

फिर मैं अपने होंठों को उनके होंठों से हटाकर उनके गर्दन में ले आया और चूमने चाटने लगा.

वो इस हरकत के लिए तैयार नहीं थीं इसलिए एकदम से तड़प गईं.
सासु मां कहने लगीं- नितिन तुमने तो मेरी तड़प बढ़ा दी है.

मैं उनकी बातों को केवल सुन रहा था और बेतहाशा उनको चूमे जा रहा था.

अब मैं उनकी टांगों की तरफ आ गया.
मुझे किसी भी महिला की टांगें चूमना चाटना बहुत पसंद हैं.
अगर मैं किसी भी महिला की जांघें देख लेता हूँ तो मेरा मन उनके लिए डोलने लगता था.

मेरी सासु मां की जांघें तो एकदम गदरायी हुई थीं.

चार बच्चों की मां रहते हुए भी वो एकदम फिट थीं.
शहर में आने के बाद मेरे ससुर के साथ में कसरत भी करती थीं.
कुछ तो देसी कसा हुआ जिस्म था, जिस वजह से उनका जिस्म पोर्न स्टार डायमंड जैक्सन की तरह था.

उन्होंने बताया था कि उन्हें नंगी फिल्म वाली हीरोइनों की तरह छोटी छोटी ब्रा और पैंटी पहनना पसंद हैं.
इसका मतलब मेरे ससुर उन्हें ब्लूफिल्म दिखाते थे.

मैं पैरों को चूमते हुए ऊपर को गया उनकी जांघों को बेतहाशा चूमने लगा.
वो भी मेरा बराबर साथ दे रही थीं.

धीरे धीरे मैंने उनके जिस्म के हर हिस्से को चूमा, सासु मां मेरे चूमने से एक बार झड़ गईं.
फिर मैंने उनकी ब्रा और पैंटी को उतार कर अलग कर दिया और उनके एक निप्पल को चूसने लगा.

वो कामुक सिसकारियां लेने लगीं.
मैंने उसी बीच अचानक एक उंगली उनकी चूत में घुसा दी.

वो चिहुंक उठीं और सिसयाती हुई बोलीं- आह बदमाश … क्या कर रहा है!
ये कह कर वो मेरे होंठों को चूसने लगीं और उन्होंने मेरी चड्डी निकाल कर फेंक दी.

अब वो मेरे लंड को बेतहाशा चूमने चूसने लगीं.
वो इतना जोर से लंड चूस रही थीं कि मैं उनके मुँह में ही झड़ गया; वो मेरा पूरा माल गटक गईं.

थोड़ी देर में मेरा लंड और ज्यादा खड़ा हो गया.
वो कहने लगीं- मेरी जान, जल्दी से अपना घोड़े जैसा लंड डाल दो. मैं तुमसे चुदने के लिए तड़प रही हूँ.

उनको मैंने लिटाया और उनकी चूत में लंड टिका कर एक झटके में घुसाना चाहा तो बहुत दिनों से ना चुदे होने के कारण उनकी चूत से फिसल गया.

मैंने फिर से टिकाया और जोर का धक्का दे दिया.
इस बार चूत को चीरते हुए लंड अन्दर तक चला गया.

वो चीखती हुई बोलीं- साले मादरचोद … आराम से नहीं डाल सकता था क्या?
मैंने हंस कर उनके एक दूध को सहलाया, उनको होंठों को चूसा और धीरे धीरे पेलना चालू कर दिया.

मेरा लंड धीरे धीरे मस्ती से अन्दर बाहर हो रहा था.
वो भी गांड हिला हिला कर मेरा लंड बड़े ही मजे से लेने लगी थीं और मेरा साथ दे रही थीं.

मैं उनके मम्मों अपनी दोनों हथेलियों में मसलते हुए लंड घुसा रहा था.
वो गांड हिलाती हुई कह रही थीं- आह बहुत मजा आ रहा है मेरी जान और चोदो … जोर से चोदो. आज पहली बार इतने मोटे और लंबे लंड से चुद रही हूँ.

मैं इधर भकाभक लंड पेल रहा था उधर वो जोर जोर से उह आह करके चिल्ला रही थीं.
मैंने उनसे कहा- धीरे धीरे चिल्लाइए पड़ोस वाले उठ जाएंगे.
उन्होंने कहा- जागने दो और सुनने दो … मैं तो कहती हूँ चलो मुझे उनके घर के सामने ले जाकर चोदो.

मैंने उनको हर पोज़ में चोदा.
कुतिया बनाकर, घोड़ी बनाकर.

फिर मैंने उनको गोद में उठा लिया और लंड डालकर चोदने लगा.

वो बोलीं- यार, ये पोज़ सबसे ज्यादा दर्ददायक और मजा वाला है.
टपाटप पेलाई चल रही थी.

चुदाई का ऐसा माहौल बना था कि वो जोर जोर चिल्लाए जा रही थीं और मैं फुल स्पीड से अपनी सासु मां को चोदे जा रहा था.

तभी रंग में भंग डालने मोनिका का कॉल आया.

मैंने पहली बार में नहीं उठाया दूसरी बार उसने फिर से कॉल किया.
फिर मैंने हांफते हुए काल उठाया.

वो बोली- क्या कर रहे हो?
मैंने झुंझला कर कहा- पेल रहा हूँ तुम्हें!
“मुझे कैसे पेलोगे … मैं तो यहां हूँ.”

फिर उसने वीडियो कॉल करने को कहा.
मैंने मना किया तो वो जिद करने लगी.

इधर उसकी मां मजे से चुद रही थी, ऊपर नीचे हो रही थी, वो वहां से हट नहीं रही थी.

मैंने सासु मां से बोला- आप कम्बल के अन्दर जाकर मेरा लंड चूसो.
वो मान गईं और लंड चूसने लगीं.

मैंने अपनी बीवी के वीडियो कॉल को एक्सेप्ट किया.
इधर ये चूस रही थी उधर वो नंगी वीडियो कॉल में अपने जिस्म का दीदार करा रही थी.

उसके कहने पर मैंने जिस्म दिखाया और जल्दी बात करके कॉल कट किया.
फिर सासु मां को ऊपर बुलाया और कहा- साली रंडी आ जा!

ये कहकर मैंने उनकी गांड में थप्पड़ मारा और उनको उल्टा करके उनकी चूत और गांड के छेद को चाटने लगा.
वो पागल हुई जा रही थीं.

कुछ देर के बाद मैं अपने लंड को डालकर फिर से सासु मां को पेलने लगा.

जल्द ही हम दोनों चरम पर आ गए.
दोनों एक साथ झड़कर लेट गए.

Xxx MILF सेक्स के बाद कहने लगीं- आज तक मेरी ऐसे अदभुत अंदाज में चुदाई नहीं हुई. मैं तो पागल हो गई.
उस रात हमने तीन बार चुदाई की.

पहली चुदाई के बाद मैंने उनको कमरे के बाहर सीढ़ी पर और बाल्कनी में चोदा.
मैं चुदाई कर रहा था और सासु मां बहुत जोर से ‘ओह आह …’ करके चिल्ला रही थीं.

तभी पड़ोस में जो आंटी थीं, उन्होंने दरवाजा खोला और हम दोनों को नंगे चुदाई करते देख लिया.
फिर हम लोग कमरे में आ गए.

थोड़ी देर और चुदाई करके हम दोनों झड़कर सो गए.
उस पड़ोसन का सासु मां के घर आना जाना था. अच्छे संबंध थे.

उन्होंने ये बात मोनिका की बड़ी दीदी को बता दी.

फिर बाद में क्या हुआ ये अगली कहानी में लिखूंगा, लेकिन उस दिन के बाद से मेरी सासु मां मेरे लंड की दीवानी हो गई थीं.

अब मैं अपने बॉस से हमेशा ही रायपुर का काम मांगता था ताकि मैं सासु मां के साथ मजे कर सकूं.

सासु मां ने अपना तन मन और धन सब मुझ पर समर्पित कर दिया.

एक दिन मैं उन्हें पेल रहा था, तब हमें उनकी बड़ी बेटी ने रंगे हाथ पकड़ लिया.

उस दिन उनकी प्रतिक्रिया कैसी रही, ये मैं आगे की कहानी में बताऊंगा.

आपको यह Xxx MILF सेक्स कहानी कैसी लगी, मेल पर प्रतिक्रिया दें.
[email protected]